अपने गांव से एक भी सरकारी नौकरी नहीं पाने का कलंक धोने मे कामयाब रहा भीखाराम

आबूरोड,( सिरोही) रिपोर्ट- सविता बेन गरासिया (KOTDATIMES.COM)

देर रात जारी शिक्षक भर्ती 2021 के अंतिम चयन सूची पात्रता की चयनित सूची में सफल।
आमतौर पर कई गांव ऐसे हैं जहां पत्थर उछालो शिक्षक पर गिरेगा की कहावत सुनाई देती है |
अर्थात हर गांव में शिक्षक तो मिल ही जाता है।
लेकिन हम आजादी के बाद के अर्से की बात करें तो जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के उप योजना अंतर्गत आबूरोड के आदिवासी दुर्गम बाहुल्य ग्रामदानी गांव निचलीबोर का आजादी के बाद 74 वर्षों तक गांव से एक भी राजकीय नौकरी नहीं हासिल करने का लगा कलंक शिक्षक भर्ती रीट के बाद अंतिम कल 27 फरवरी 2022 को चयनित सूची जारी के बाद एक अभावों में पलकर गरीबी से उठे भीखाराम पुत्र लालाराम गरासिया ने कहे तो अशिक्षा का कलंक धो दिया है।

अपने गांव में है प्राथमिक विद्यालय:-
आबू रोड का निचली बोर ग्राम दानी गांव में एक प्राथमिक स्तर का शिक्षाकर्मी विद्यालय है, जहां भीखाराम पुत्र लालाराम गरासिया ने प्रवेश लिया। बाद मे कई संघर्षों के बाद में अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा जारी रखी और एसटीसी का प्रशिक्षण पाली से प्राप्त करने के बाद रीट की तैयारी में लग गया।
अंतिम शिक्षक चयन की पात्रता के बाद भीखाराम गरासिया अपने गांव का पहला सरकारी कर्मचारी बनेगा।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

392 views