आबुरोड भाखर में खाट बना पहाड़ी एंबुलेंस निचलाखेजड़ा से मथाराफली तक सड़क ही नहीं

आबूरोड़( सिरोही) रिपोर्ट – देवाराम (kotdatimes)

21/12/2020

उपलाखेजडा ग्राम पंचायत के निचलाखेजड़ा से मथारा फली 5 किलोमीटर की दूरी तक सड़क की सुविधा नहीं होने से आदिवासी पैदल सफर कर घर को पहुंचते हैं। आजादी के बाद इस फली में रहने वाले लोग इस मूलभूत जरूरत को पूरा करने के लिए ग्राम पंचायत से लेकर क्षेत्रीय विधायक तक अपनी आवाज बुलंद कर चुके हैं। लेकिन उनकी हर मांग अनसुनी रही है।

चुनावी वादों तक आश्वासन:-
जब चुनाव आते हैं तब प्रत्याशी वादे कर जाते हैं और बाद में उनकी मांगों पर कोई ध्यान नहीं देने से 200 घरों की आबादी के ये लोग खासे नाराज हैं।

आम है इस क्षेत्र में ऐसा सफर:-
क्षेत्र के लिए ऐसा सफर कोई नया नहीं है यह तो रोज का दर्द है। आधुनिकता की चकाचौंध में दुनिया के सफर की तुलना क्षेत्र से करें तो चौकाना जरूरी लेकिन विवशता हकीकत है।

दुर्घटना के शिकार व्यक्ति को निचलाखेजड़ा से 5 किलोमीटर दुर्गम मथाराफली की ओर खाट के सहारे थाम कर ले जाते परिजन

खाट के सफर में कई अर्थीया लौट चुकी है:
मथारा फली के आदिवासी बताते हैं कि सालाना 15 से 20 मौतें इलाज या प्रसव के लिए इसी माध्यम से ले जाते समय बीच सफर में दम तोड़ने से हो जाती है। कई बार तो देर हो जाने पर वही खाट रुपी एंबुलेंस मोक्ष रथ बन मुक्तिधाम तक थके कदमों से पहुंचने को विवश हो जाते हैं ।

दुर्घटना के शिकार को घर ले जाने तक की आपबीती:- शनिवार को मथारा फली के युवा वरदाराम पुत्र नवाजी को आबूरोड़ के निकट ट्रक ने चपेट में ले लिया था जिससे उसका एक पैर फैक्चर हो गया। परिजन उसे उपचार के बाद निचला खेजडा ले गए। वहां से खाट में लेटाकर पगडंडियों से 5 किलोमीटर दूर मथारा की और ले जाने में 15 से 20 लोगों की जरूरत पड़ी चढ़ाई के दौरान अधिकतम 200 मीटर पर विश्राम करने की जरूरत पड़ी अलग-अलग लोग कंधा बदलते गए और कई विश्राम पश्चात शाम को देर थके हारे उसके घर पहुंचे। फोटोः-

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1,012 views