एक लड़ाई चॉक के साथ – Divyesh Joshi

एक लड़ाई चॉक के साथ 

चल सब संग लड़ते है
कुछ कलम भी साथ लेके
आ ये आलम बदलते है
लाल रंग भूल के
सफेद और नीला रंग भरते है
बोल के तो सब चल रहे है
हम लिख कर आगे बढ़ते है
यही शायद एक तरीका है
अमर क्रांति का

 

आवाज़ मेरी मेरे संग जाएगी 
बस यही सोच के
इन शब्दों को लिखते चलते है
इन बातों को कलम से अमर कर चलते है
मुझे तुम भूल भी जाओ
पर अपने हक को लिख कर रखना
क्योंकि ये कानून तो हर पल बदलते है
लड़ना होगा हर मुक़ाम पे 

 

आज़ादी तो हम लिख के चलते है
आ चल इस चॉक से ये मंज़र बदलते है

लेखक – दिव्येश जोशी 

(Divyesh Prem Lata Joshi)

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

622 views