नरेगा से संसाधनों का विकास व हर घर की आजीविका हो सकती हैं सुद्रढ़ अच्छा काम पूरा दाम नारे से सम्पन्न हुआ मेट प्रशिक्षण

रिपोर्ट -विनोद कुमार (KOTDATIMES.COM) 29/1/22

अच्छा काम और पूरा दाम के साथ कोटड़ा के प्रत्येक मेट को कार्य करवाना हैं। गांव में संसाधनों का विकास ऐसा हो कि वह मिल का पत्थर साबित हो जिससे लम्बे समय तक समुदाय की आजीविका स्थापित हो सके व प्रत्येक परिवार को 221 रुपया न्यूनतम् मजदूरी सुनिश्चित हो यह बात विकास अधिकारी धनपतसिंह द्वारा आदिवासी विकास मंच द्वारा चलाये जा रहे नरेगा अभियान के कोटड़ा क्लस्टर के महिला नेतृत्वकर्ताओं व मेटों के प्रशिक्षण में कही।

आदिवासी विकास मंच द्वारा कोटड़ा में आयोजित प्रशिक्षण में 30 गांव के 59 महिला 38 पुरुष 97 सहभागियों द्वारा भागिदारी की गई। मंच संयोजक बाबुलाल गमार ने बताया कि नरेगा कोटड़ा समुदाय के जीवन का आधार हैं इसमें मेट ही महत्वपूर्ण भूमिका निभा कर इये प्रभावी बना सकता हैं।

नरेगा में पूरा पैसा दिलवाने की कड़ी हैं मेट
राजस्थान आदिवासी अधिकार मंच के धरमचन्द खैर ने नरेगा के मुख्य प्रावधानों, मेट की जिम्मेदारी पर चर्चा की उन्होनें बताया कि यदि मजदूर को पूरा पैसा दिलवाना हैं तो मेट ही यह व्यवस्था स्थापित कर सकता हैं। मेट की इच्छा शक्ति के बगैर यह संभव नहीं होगा।

100 दिन पूर्ण करवाने के लिये चलायेगे अभियान
मंच के समन्वयक सरफराज ने बताया की अभी कई परिवार के 100 दिन पूर्ण नहीं हुये हैं इसके लिये गांव के युवाओं, मेटों के सहयोग से विषेष अभियान गांव-गांव में चलायेगे ताकि हर जरुररतमंद आवेदन कर सके व काम पर लग सके।

अब मजदूरों की हाजरी और नपती होगी ऑनलाईन
एम.आई.एस. मैनेजर रामेश्वर द्वारा सभी को बताया गया की सरकार द्वारा एक विशेष एप् तैयार किया गया हैं जिससे मेट अब इससे हजारी लेगे व नपती भी प्रतिदिन की इसमें चढ़ायेगे। इस व्यवस्था से कार्य में अधिक पारदर्शिता आयेगी। उन्होनें साथ ही नये मेट बनने की प्रक्रिया बताई व दस्तावेज लाने पर उन्हें आई.डी. जारी करने की बात कही।

प्रशिक्षण में संदर्भ व्यक्ति चन्दूराम गरासिया द्वारा मेटों को नपती व्यवस्था, एम.आई.एस. पोर्टल के उपयोग के बारे में जानकारी प्रदान की गई। मंच मकनाराम खैर, मोहनलाल, रमेश गमार, कुपलाराम ने सहयोग प्रदान किया।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

571 views