“पोषण की पोटली” कार्यक्रम से रेडियो मधुबन फैला रहा है सही पोषण की जागरूकता

रिपोर्ट- रेडियो मधुबन
7/12/2020
आबुरोड

जिले के आबूरोड, तहसील से प्रसारित होने वाले सामुदायिक रेडियो केंद्र, रेडियो मधुबन 90.4 FM द्वारा स्थानीय समुदाय के अंदर सही पोषण के बारे में जानकारी देने हेतु एक विशेष कार्यक्रम “पोषण की पोटली” का शुभारंभ किया गया | कुपोषण की रोकधाम और उससे जुड़े विभिन्न मुद्दों को लेकर श्रंखला “पोषण की पोटली” श्रोताओं को काफी पसंद आ रही है | इस श्रृंखला का प्रसारण मंगलवार और गुरुवार को सुबह साढ़े 11.30 बजे एवं शाम 5 बजे तक किया जाता है, जबकि शनिवार और रविवार को दोपहर 3.30 बजे सभी श्रोता इसे सुन सकते है |इस कार्यक्रम का शुभारंभ, आबूरोड तहसील के बगेरी ग्राम में महिला एवं बाल विकास विभाग की आशा कर्मियों और कार्यकर्ताओं के साथ सेक्टर सुपरवाइजर श्रीमती कल्पना शर्मा, रेडियो मधुबन के प्रोडक्सन हेड कृष्णा बहन और सामुदायिक कार्यक्रम संयोजक आर.जे. पवित्र की मौजूदगी में हुआ |

गौरतलब है की लंबे समय से सिरोही जिले में कुपोषण के कई मामले सामने आते रहे है और इसकी वजह लोगों में जागरूकता की कमी का होना है। इसके निदान हेतु रेडियो मधुबन ने यह कार्यक्रम शुरू किया है |  जब इस कार्यक्रम के बारे में स्टेशन हेड यशवंत पाटिल जी से बात की गयी तो उन्होने बताया की रेडियो इस कार्यक्रम को संयुक्त राष्ट्रसंघ के संस्थान “यूनिसेफ” एवं नई दिल्ली से गैर सरकारी संस्थान स्मार्ट मधुबन मार्गदर्शन में संचालित कर रहा है | इस प्रसारण के तहत एनीमिया के लक्षण और बचाव, गर्भवती महिलाओं के उचित खानपान सहित स्तनपान के फायदे जैसे कई मुद्दों पर जानकारी दी जाती है। विशेषकर बच्चों के लिए उचित आहार और सही पोषण पर भी जानकारी साझा की जा रही है।

कार्यक्रम में उपस्थित सेक्टर कोऑर्डिनेटर श्रीमती कल्पना शर्मा ने रेडियो मधुबन के इस पहल की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए बताया की इस कार्यक्रम को सभी लोगों को जरूर सुनना चाहिए, विशेषकर गर्भवती माताओं, बहनों और बढ़ती उम्र की बच्चियों को | इसमे वह अपने उम्र अनुसार खान-पान के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकेंगे | साथ-साथ वह अपने शरीर में आने वाले बदलावों अनुसार शरीर को सही पोषण दे कर स्वस्थ्य रखने के बारे में जान सकेंगे | सभी उपस्थित महिलाओं को इस कार्यक्रम की झलकियां सुनाई गई और फिर आशा कर्मियों और सेक्टर सुपरवाइजर कल्पना शर्मा का लघु साक्षात्कार भी रिकॉर्ड किया गया |सी.एम.एफ टाटा ट्रस्ट की सीनियर फेलो योगिता जी ने भी रेडियो मधुबन से इस विषय पर अपने विचार रखे | कुपोषण का शारीरिक और मानसिक तौर पर बच्चों और महिलाओं में कितना गहरा असर होता है और इसकी वजह से स्वास्थ्य को क्या नुकसान होते है इन सभी पहलुओं पर श्रृंखला में विस्तार से बताया जा रहा है। कुल मिलाकर ये कार्यक्रम सभी गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए सही पोषण के मार्गदर्शन को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए रेडियो मधुबन के नंबर 9414151415 पर संपर्क किया जा सकता है |

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

922 views