महिलाएं नरेगा मेट के रुप में कार्य करे तो नरेगा होगा प्रभावी

रिपोर्ट -विनोद कुमार (KOTDATIMES.COM) 28/01/22

मामेर क्लस्टर में युवा महिलाओं व मेटों का हुआ प्रशिक्षण

कोटड़ा का गुजरात से सटा हुआ भाग जिसमें 12 ग्राम पंचायत हैं जहां से बालश्रम और भाग की खेती में जाने वालों की संख्या अधिक हैं यदि यहां पर नरेगा में मजदूरों का 100 दिन काार्य व पूरा भगुतान 221 रुपया मिल जाये तो रुक सकता हैं प्रवास। इस सपने को साकार करने के लिये महिला मेट की भूमिका महत्वपूर्ण होगी यह बात विकास अधिकारी धनपतसिंह राव द्वारा आदिवासी विकास मंच द्वारा आयोजित युवा महिला व महिला मेट प्रशिक्षण में कही गई।

आज मामेर राजीव गांधी सेवा केन्द्र पर 12 ग्राम पंचायत के 16 गांव की 66 महिलाओं के साथ प्रशिक्षण आयोजित किया गया। मंच के समन्वयक सरफराज ने बताया कि नरेगा को किस प्रकार से महिलाओं की भागिदारी के साथ प्रभावी बनाया जाये इस पर विषेष अभियान चलाया जा रहा हैं उसी संदर्भ में यह प्रशिक्षण कोटड़ा के प्रत्येक इलाके में आयोजित किया जा रहा हैं।प्रशिक्षण के प्रारम्भ में राजस्थान आदिवासी अधिकार मंच धरमचन्द खैर द्वारा नरेगा के मुख्य प्रावधानों को बताया गया व इस पर चर्चा की गई कि सभी मिलकर कैसे नरेगा को मजदूरों के लिये आजीविका का एक मजबूत आधार बना सके।

समय पर भुगतान नहीं मिलने से श्रमिक जाते हैं गुजरात
महिलाओं ने बताया कि कभी कभार नरेगा भुगतान में श्रमिकों के देरी हो जाती हैं जिससे मजबुरी में लोग गुजरात मजदूरी करने जाने को विवष हैं यदि नरेगा में समय पर भुगतान हो जाये तो नरेगा क्षेत्र के लिये वरदान साबित होगी।

नपती से कार्य को महिला मेट द्वारा स्थापित किया गया
महिला मेट सोनादेवी द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा भुरीढ़ेबर गांव में नपती से कार्य करवाया गया जिसमें श्रमिकों ने प्रारम्भ में नपती का कार्य नहीं करने की बात कही परन्तु उनके द्वारा निरन्तर प्रयास किया गया जिससे 220 रुपया श्रमिकों को प्रतिदिन की मजदूरी मिली इससे श्रमिकों में विष्वास पैदा हुआ व दूसरी बार सभी ने नपती से कार्य किया। उन्होने बताया कि श्रमिक 3 घंटे में समूह कार्य पूर्ण कर लेते व घर चले जाते।

प्रशिक्षण में मंच के राजेन्द्र कुमार ने बताया कि महिला मेट के लगने से बालश्रम, एवजी श्रमिक कम हुये हैं व नपती व्यवस्था भी स्थापित हुई हैं। आनन्दी बेन द्वारा महिलाओं को नपती व्यवस्था व एम.आई.एस. के बारे में जानकारी दी गई साथ ही गांव में अधिक से अधिक आवेदन करवाने की आयोजना तैयार की गई।प्रशिक्षण में मंच के किशनलाल पारगी, मंजुला कुमारी, आकाश एवं मामेर ग्राम पंचायत के पंचायत सहायेग व क्षेत्र के वार्ड पंचों द्वारा भागिदारी की गई।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

439 views