भील समाज का प्रसिद्ध “सरतानेश्वर लौटाना,, मेला 17 अप्रैल रविवार रात्रि, एवं 18 अप्रैल सोमवार को दिन में

सरूपगंज, (सिरोही) (Kotdatimes.com) रिपोर्ट – सवीता बेन गरासिया

तैयारियां पूरी, व्यवस्थाओं के लिए कमेटियो का गठन। शराब पीकर आने पर प्रतिबंध।
स्वरूपगंज के पास सरतानेश्वर महादेव मंदिर लौटाना में प्रसिद्ध भूरिया बाबा के नाम से मशहूर भील समाज का मेला 17 अप्रैल रविवार को रात्रि एवं 18 अप्रैल सोमवार को दिन में भरेगा।

जिले एवं पाली तथा मेवाड़ तक के सामाजिक लोग होते हैं शामिल
सरणुआ पर्वत की गोद में बसे सरतानेश्वर महादेव मंदिर के इस वार्षिक मेले में भील समाज के रोई एवं भितरोट परगनो की जाजम पर समाज हित के निर्णय लिए जाते हैं। परगनों के सम्मानीय वरिष्ठ जन टीलेदारो का सामाजिक तौर पर सम्मान किया जाता है। इस वार्षिक मेले में सिरोही पाली तथा मेवाड़ तक के लोग उत्साह और उमंग से शरीक होकर आस्था एवं सांस्कृतिक ताने-बाने में ताल बजाते हैं। युवा मेले में पग घुंघरू की ठमक के साथ भूरिया बाबा के जयकारे एवं गीत गान के लाजवाब प्रदर्शन प्रस्तुत करते हैं।

पूजा अर्चना एवं भोग तथा मेहमाननवाजी:-
मेलार्थियो द्वारा सरतानेश्वर महादेव मंदिर में पूजा अर्चना की जाती है। तथा भोग लगाया जाता है ।, विभिन्न बैठक ठिकानो पर रिश्तेदारों की मेहमाननवाजी की जाती है। आदर सत्कार की एक यहां अमिट छाप का संदेश दिखाई पड़ता है। इस बार भजन कलाकार मनोज राणा द्वारा भजनो की सुर सरीता भी मेले में रात्रि में बहेगी।

शराब एवं शरारत पर दंड:
व्यवस्थाओं के तौर पर यहां रात्रि एवं दिन में कमेटियों का गठन किया गया है जो शराब पीकर आने वाले एवं शरारती तत्वों पर पेनी और तीसरी नजर रखेंगे। मेले की शोभा के विरुद्ध एवं अवांछित श्रेणी की हरकत की परिस्थिति में नियुक्त निगरानी कमेटी पूरा ध्यान रखेगी। दंड देना तय किया गया है।
फोटो:-लौटाना के सरतानेश्वर मेले से पूर्व तैयारियां।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

325 views